मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो
India
जन्मस्थान... शामली जिला शामली उत्तर प्रदेश, कर्मस्थान..... वर्तमान में लखनऊ

रविवार, अगस्त 22, 2010

ज़िन्दगी

रूठती मनती हुई सी ज़िन्दगी
मुठ्ठियों से रेत सी छनती हुई सी ज़िन्दगी

ज़िन्दगी से पूछता हूं ज़िन्दगी तू कौन है
ज़िन्दगी ही कह रही है ज़िन्दगी तो मौन है

ये कभी पत्थर कभी है रूई सी ज़िन्दगी
दोस्तों बेशर्म है छुइ मुई सी ज़िन्दगी

है कभी पतझड़ कभी है बाग सी ये ज़िन्दगी
बर्फ का टुकड़ा है यारों आग सी ये ज़िन्दगी

इक सवेरा है कभी है रात सी ये ज़िन्दगी
मौन रहते हैं जो उनकी बात सी ये ज़िन्दगी

है कभी कांटा कभी है फ़ूल सी ये ज़िन्दगी
याद करता हूं तो लगती भूल सी ये ज़िन्दगी

ये कभी आंधी कभी पुरवाई सी ये ज़िन्दगी
भीड़ इतनी है लगे तन्हाई सी ये ज़िन्दगी

ये कभी मंजिल कभी इक रास्ता है ज़िन्दगी
भूली बिसरी याद रहती दास्तां है ज़िन्दगी

दीक्षित

2 टिप्‍पणियां:

  1. wonderful dixit ji :) n mujhe aaj hi pata laga aapke blog ka nd nw jab bhi aap kuch naya add kare thn link bhej dijeyega....

    उत्तर देंहटाएं